कार्यक्रम के बारे में

Hindi

पूर्णकालिक मास्टर कार्यक्रम

शैक्षिक वर्ष 2016 – 2018

उद्देश्य और कार्यक्रम के प्रमुख विषय:

सामाजिक नवाचार और उद्यमिता में स्नातकोत्तर डिग्री का उद्देश्य छात्रों को सामाजिक उद्यमिता के माध्यम से सतत विकास का आयोजन और नेतृत्व करने हेतु नया दृष्टिकोण और अभिमुखिकरण प्रदान करना है। यह एक विशिष्ट कार्यक्रम है, जो छात्रों को बेरोजगारी के मुद्दों को दर्शाते अर्थपूर्ण सामाजिक कार्य हेतु पेशेवर रूप से तैयार करने जिस द्वारा, सामाजिक नवाचार और उद्यमिता के माध्यम से रोजगार सृजन हेतु नए पैटर्न और संभावनाओं को तैयार करने के लिए संरचित है। कार्यक्रम का प्रारंभ प्रो. मोहम्मद यूनस, नोबेल पुरस्कार विजेता और संस्थापक, ग्रामीण बैंक, बांग्लादेश द्वरा आरजीएनआईवाईडी में सितंबर में 2015 के दौरान किया गया ।

एमएएसआईई कार्यक्रम विषय के अध्ययन, क्षेत्र आधारित उन्मुख शिक्षा, नई विश्लेषणात्मक कार्यप्रणाली को खोजने और सामाजिक उद्यमिता के संदर्भ में नवीनतम अनुसंधान का अन्वेषण करते हेतु निवेश प्रदान करता है। केस अध्ययन  में समूह चर्चा के माध्यम से, सिमुलेशन और टीम के अभ्यास द्वारा छात्रों का कौशल निर्माण किया जाता है और कक्षा में सीखे विषयों को सामाजिक व्यापार चुनौतियों की असली दुनिया में लागू करने हेतु अवसर प्रदान करता है। अध्ययन के दौरान छात्रों को लगातार सवाल करने, मोटे तौर पर सोचने, परिणाम का मूल्यांकन करने – दूसरे शब्दों में बदलाव चाह्ने वाले आज के नेताओं में  आवश्यक कौशल और बुद्धि को विकसित करना है।

आरजीएनआईवाईडी, उन छात्रों को जो दृढ़ संकल्प और प्रयास के साथ दुनिया पर अपनी मोहर लगाना चाहते हैं, जो एक पारंपरिक समस्याओं का समाधान कर सकते हैं, अपरंपरागत दुविधाओं को अपने अत्याधुनिक विचारों के साथ पूर्व कार्रवाई कर फिर से परिभाषित कर सकते हैं का आवाहन करता है। संस्थान “नट और बोल्ट” से परे जो छात्र नवाचार अभ्यास कर सकतें हैं उन छात्रों की खोज में है जो सामाजिक उद्यमी प्रयास के लिए महत्वपूर्ण है।

बुनियादी पाठ्यक्रम:

1. युवाओं पर समझ

2.  भारतीय समाज, अर्थव्यवस्था और राजनीति

3. लिंग और समाज
 

 

मूल पाठ्यक्रम:

  1. अनुसंधान क्रियाविधि
  2. नवाचार और उद्यमित
  3. सामाजिक उद्यमिता के अवसर और मॉडल
  4. सामाजिक उद्यम के लिए विपणन
  5. नेतृत्व और सामाजिक परिवर्तन
  6. समवर्ती क्षेत्रीय कार्य :समूह अभ्यास
  7.  सामाजिक उद्यमिता उपकरण और दृष्टिकोण
  8.  परियोजना प्रबंधन
  9. परियोजना क्षेत्रीय कार्य-।: चयनित क्षेत्र में 30 दिनों के लिए
  10.  नविन सोच का डिजाइन, मितवययी नवीनीकरण और स्थिरता
  11.  परियोजना क्षेत्रीय कार्य-।।: चयनित क्षेत्र में 30 दिनों के लिए (उद्यम योजना प्रस्तुति)
  12.  मौखिक परिक्षा के साथ अनुसंधान निबंध

विभाग केंद्रित वैकल्प:

  1. अर्थशास्त्र के सिद्धांत
  2. प्रबंधन के सिद्धांतों
  3. बुनियादी लेखांकन और वित्तीय प्रबंधन
  4. व्यापार नीतिशास्त्र और निगमित प्रशासन और सामाजिक दायित्व
  5. सामाजिक उद्यम में जोखिम प्रबंधन
  6.  सामाजिक उद्यम का आकलन (स्व अध्ययन)
  7. वित्तीय समावेशन
  8. सामाजिक मुद्दों के लिए विज्ञान और प्रौद्योगिकी
  9. उद्यम सृजन
  10.  सामाजिक उद्यमिता के लिए क्षेत्रवार अवसरों की समझ - । (स्व अध्ययन)
  11. सामाजिक परिवर्तन के लिए पक्षपोषण और नेटवर्किंग
  12. सामाजिक उद्यमिता के लिए क्षेत्रवार अवसरों की समझ - ।। (स्व अध्ययन)

 

ओपन वैकल्प:

  1. समुदाय क्षमता निर्माण के लिए रंगमंच
  2. सामाजिक उद्यमिता के लिए निधि जुटाना

नौकरी की संभावना

एमएएसआईई कार्यक्रम सामाजिक उद्यमों में विशेष रूप से नौकरी खोजने के लिए बड़ा लाभकार्य है चूंकि आरजीएनआईवाईडी ने सामाजिक नवाचार और उद्यमिता केंद्र (सीएसआईटी), आईआईटी मद्रास, चेन्नई और भारतीय उद्योग परिसंघ के साथ ज्ञान साझेदारी ज्ञापन स्थापित किया है।

एमएएसआईई के छात्रों में उद्यमशीलता की भावना का पोषण करने के लिए आरजीएनआईवाईडी ने सहायक सामाजिक उद्यम इन्क्यूबेटरों के सहयोग से व्यवहार्य सामाजिक उद्यम मॉडल के सृजन, सुधार और परीक्षण के लिए छात्रों को पूर्व ऊष्मायन समर्थन की एक व्यापक स्पेक्ट्रम प्रदान किया गया है। संस्थान अक्सर उनके प्रसिद्ध सामाजिक उद्यमियों को वर्तमान छात्रों को अपने सामजिक उध्यम, कैरियर में उन्नति और अपने शैक्षणिक नीव को पेशेवर सफलता में बदलने पर संबोधित करने हेतु आमंत्रित करता है।